Sonia Gandhi suggested to ban media ads : यदि माना गया सोनिया गाँधी का प्रस्ताव तो बंद हो सकता है TV और News Paper

जनबोल न्यूज

देश इनदिनों कोरोना महामारी के संकट के दौर से गुजर रहा है।

लगाता सरकारें अलग अलग तरिके से फंड कटौती कर इस महामारी से जुझ रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने सभी पार्टी के अध्यक्षों से देश को इस दौड़ से निकालने के लिए  सलाह मांगा था।

सोनिया गाँधी ने भी प्रधानमंत्री मोदी को दो पन्नों का एक पत्र लिखा है।

पत्र में जहाँ संसदों के वेतन को 30 प्रतिशत तक काटने का आग्रह किया है वहीं मीडिया विज्ञापन जो कोविड-19 से संबंधित नहीं है उसे भी बंद करने का प्रस्ताव दिया है।

सोनिया गाँधी द्वारा लिखे गए पत्र की माने तो हर साल केंद्र सरकार 1250 crore प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर खर्च करती है।

यहीं नहीं  सरकारी कंपनीयाँ भी तकरीबन इतना हीं खर्चा अपने विज्ञापन पर करती है यदि फिलहाल दो सालों के लिए यह बंद कर दिया जाए तो बड़े मात्रा में पैसा इक्कठा होगा जिनसे कोविड-19 से लड़ा जा सकता है।

 

यह परेगा प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर असर

प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया ज्यादतर सरकारी विज्ञापनों पर हीं टिका है।

ऐसे में सोनिया गाँधी के प्रस्ताव से प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के संगठनों में असंतोष पैदा कर दिया है।

यदि सोनिया गाँधी के प्रस्तावों को मान लिया जाता है तो प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया आर्थिक तंगी की ओर बढ़ सकता है।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया संगठन NBA ने की निंदा

न्यूज ब्राडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने सोनिया गाँधी के  प्रस्‍ताव की कड़ी निंदा किया है।

निंदा करते हुए  कहा कि मीडिया कर्मियों के लिए इस तरह का सुझाव मनोबल गिराने वाला है ।

एनबीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने कहा कि हम कांग्रेस अध्यक्ष के इस सुझाव की कड़ी निंदा करते हैं।

ऐसे समय में जब मीडिया कर्मी जान जोखिम में डालकर लोगों तक सही समाचार पहुंचाने का काम कर रहे हैं, तब कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से इस तरह का सुझाव आना निराशाजनक  है।

 

 

 

 

decision about extension of lock down in India : लॉकडाउन बढ़ेगा या नहीं फैसले का दिन फाइनल हुआ।

Janbol News

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सर्वदलीय बैठक किया।

बैठक में प्रधानमंत्री  ने देश में लॉकडाउन को और आगे बढ़ाने के संकेत दिए हैं।

पीएम ने इस दौरान कहा कि वह 11 अप्रैल को फिर से सभी राज्यों के सीएम से बात करेंगे।

सांसदों के साथ बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि देश में स्थिति ‘सामाजिक आपातकाल’ के समान है ।

इसके लिए कड़े फैसलों की जरूरत है और साथ हीं हमें सतर्क रहने की भी जरूरत है।

राज्यों, जिला प्रशासन और विशेषज्ञों ने वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन को आगे बढ़ाने का सुझाव दिया है।

यह भी पढ़ें : Market में अब आ चुका है कोरोना , कोविड और लॉकडाउन बच्चा

कई राज्यों ने की थी लॉकडाउन बढ़ाने की अपील 

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, तेलंगाना के सीएम चंद्रशेखर राव, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लॉकडाउन बढ़ाने का आग्रह किया था । माना जा रहा है कि अब पीएम मोदी देश के सीएम के साथ एक अन्य बैठक के बाद के बाद लॉकडाउन पर कोई फैसला ले सकते हैं। सब की निगाहें 11 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी के साथ मुख्यमंत्रीयों के साथ  बैठक पर टिकी है।

corona updates : अमेरिका में 24 घंटे में 2000 लोगों की गयी कोरोना से जान,अबतक 12 हजार से ज्याद की गई है जान ।

कोरोना वायरस की महामारी का केंद्र बने अमेरिका में हालात काबू से बाहर होते जा रहे हैं।

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान अमेरिका में दो हजार लोगों की मौत हो गई है।

अमेरिका में कोरोना से संक्रमितों की संख्या बढ़कर तीन लाख 90 हजार से ज्यादा हो गई है और अब तक 12 हजार से ज्यादा पीड़ितों की मौत हो चुकी है।


महामारी का सबसे ज्यादा असर न्यूयॉर्क में देखने को मिल रहा है।

यहां संक्रमण के एक लाख 38 हजार मामले सामने आए हैं।

न्यूयॉर्क में जान गंवाने वालों का आंकड़ा भी पांच हजार को पार कर गया है।

कोरोना महामारी की वजह से न्यू जर्सी में 1200 लोगों की मौत हुई है, जबकि 44 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं।

न्यूयॉर्क में बड़ी संख्या में लोगों के संक्रमित होने से अस्पतालों में जगह भी कम पड़ रही है।

यही नहीं इस जानलेवा वायरस की वजह से दुनिया भर में अबतक 80 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और  14 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं।

यह है भारत की स्थिति

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) से 149 लोगों की मौत हो गई है।

पूरे देश की बात करें तो अब तक 5,194 मामले सामने आए हैं।

इनमें से 4,643 लोगों का इलाज जारी है और 401 मरीज ठीक भी हो गए हैं।

मंत्रालय द्वारा आज सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 773 मामले सामने आए हैं और 10 लोगों की मौत हुई है।

child name in India : अब बच्चों का नाम भी रखा जाने लगा , लॉकडाउन ,कोरोना और कोविड

देश में फिलहाल 21 दिनो के लिए लॉक डाउन है। लॉक डाउन क्यों है ?

वही COVID19 और corona बिमारी का खौफ जो एक दूसरे से मिलने जुलने से फैल रहा है।

हममें से ज्याद लोग लॉक डाउन से उबने लगे हैं लेकिन एक परिवार ऐसा भी है जो ताउम्र लॉक डाउन के साथ रहना चाहते हैं।

दरअसल मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के एक किसान ने बच्चे का नाम ‘लॉकडाउन’ रखा है।

किसान का नाम रघुनाथ माली और पत्नी का नाम मंजू है।

नवजात  का जन्म 6 अप्रैल को हुआ है जब देश भर में लॉक डाउन जारी था और यादगार बनाने के लिए बच्चे का नाम हीं लॉक डाउन रख दिया।

छत्तीसगढ़ में है कोरोना और कोविड 

ठीक लॉकडाउन की तरह 26 मार्च को छतीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक दंपत्ति ने जुड़वा बच्चे को जन्म दिया ।

दंपति ने अपने जुड़वा बच्चों का नाम कोरोना और कोविड रखा है।

दंपति ने ऐसा  लॉकडाउन के चलते डिलीवरी में आई मुश्किलों को यादगार बनाने के लिए किया है।

दरसअल बच्चों के जन्म के बाद आसपास के लोग  अस्पताल में भी उन्हें कोरोना और कोविड बुलाने लगे।

ऐसे में दंपति ने भी लड़की का नाम कोरोना और लड़के का नाम कोविड हीं  रख दिया।

farm allowed to harvest farm in bihar durring lock down :राहत की खबर : फसल की कटाई पर रोक नहीं, किसानों को सोशल डिस्टेंसिंग का करना होगा पालन।

जनबोल न्यूज
कोरोना महामारी के कारण देश भर में लॉक डाउन जारी है।
लॉकडाउन के कारण मजदूर फसल काटने नहीं जा रहे हैं।
अकेले बिहार की बात करें तो अनुमानत : 26 लाख हेक्टेयर जमीन पर गेंहूँ लगा है इसके आलावा दलहन और तिरहन की भी फसलें लगी है।
यदि यह फसलें नहीं कटती है तो देश और राज्य के सामने खाद्दान्न संकट आने की संभावना है। इन सबके बीच एक राहत की खबर मोतिहारी से आरही है।
 मोतिहारी के संग्रामपुर प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी बलवंत कुमार पांडेय ने आज किसानों को खेतों मे बुलाकर मुलाकात कर समय से फसल की कटाई करने की बात कही। दरअसल ब्लॉक में अभी गेहूं की फसल और तरबूज  की फसल कटनी का समय है। लॉकडाउन  के वजह से किसान कटनी के लिए बेचैन तो है लेकिन लॉकडाउन मे घरों से बाहर नहीं निकल पा रहा है । आज प्रखंड विकास  पदाधिकारी किसानों से बुलाकर उनसे उनके समस्या के बारे मे जाना साथ ही किसानों को सरकार द्वारा किसानों के लिए जारी दिशा निर्देश से अवगत कराते हुये बताया की पांच आदमी से ज्यादा की भीड़ नहीं लगानी है ,कम-से-कम एक मीटर की दूरी बना कर रखना है,मास्क लगाना जरूरी है, समय समय पर साबुन  से हाथ धोते रहना है।फसल के खरीद -बिक्री हेतु वाहनों को  परिवहन विभाग द्वारा बी आर सी संग्रामपुर मे 8 अप्रैल को कैम्प लगा कर परमीट दी जाएगी।खेतो मे कृषि कार्य हेतु उपकरण को लाने लेजाने के लिए  बंदी मे छूट रहेगा फिर भी कोई परेशानी हो तो जिला कृषि पदाधिकारी से सम्पर्क किया जा सकता है।।
Reported By
ओमप्रकाश गुप्ता मोतिहारी

corona patient updates : बिहार में 24 घंटो में नहीं मिला नया कोरोना मरीज ।

Janbol News

कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए 21 दिन के लॉकडाउन का सोमवार को 13वां दिन है।

पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर समेत पूरे बिहार में लॉकडाउन प्रभावी रूप से लागू है।

एक बाइक पर दो लोगों के सवार होने पर भी रोक लगा दी गई है।

इस बीच, अच्छी खबर यह है कि पिछले 24 घंटे में बिहार में कोरोना का कोई नया मरीज नहीं मिला है।

राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या फिलहाल 32 हीं  है।

एक मरीज की मौत हो चुकी है, जबकि 4 ठीक भी हुए हैं।

रविवार को 706 सैंपल की जांच हुई थी।सभी सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई।

छपरा के पहले कोरोना संक्रमित की रिपोर्ट भी निगेटिव आई है।

उसके 13 नजदीकी लोग भी कोरोनावायरस से संक्रमित नहीं पाए गए हैं।

इधर, गोपालगंज के एक कोरोना संदिग्ध मरीज की मौत हो गई।

वह 20 दिन पहले गुजरात के सूरत से अपना घर आया था।

रविवार को परिजनों ने मरीज को गोपालगंज सदर अस्पताल में भर्ती कराया था।

डॉक्टरों ने गंभीर स्थिति देखते हुए मरीज को पटना रेफर किया था।

सोमवार को पटना लाते समय रास्ते में ही मरीज की मौत हो गई।

परिजन शव को वापस गोपालगंज ले गए। सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

रिपोर्ट आने के बाद परिजन को शव सौंपा जाएगा।

appreciation to safai mazdoor : भाजपा खेल संयोजक ने सफाई कर्मियों के सम्मान मे बजाई ताली।

जनबोल न्यूज
कोरोना महामारी के कारण पूरी दुनिया दहसत में है।
भारत में भी कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।
इस दहसत से लड़ने में स्वास्थ्य कर्मियों पुलिस कर्मियों के अलावा एक गुमनाम हिस्सा सफाई मजदूरों का भी है।
इसे देखते हुए वैश्विक कोरोना महामारी के तहत जहां एक ओर देशव्यापी लॉक डाउन है,वहीं इस चुनौतीपूर्ण समय में नगर परिषद,मोतिहारी के सफाईकर्मी नगर की स्वच्छता में अपनी महती भूमिका अदा कर रहे हैं।आज मुख्य पार्षद द्वारा सफाई कर्मचारियों को टिका लगा कर एवं जिला संयोजक क्रीड़ा मंच भाजपा भोला गुप्ता द्वारा माला पहना कर ताली बजा कर अभिनंदन किया गया।साथ ही उन्हें खाद्य समाग्री का पैकेट भी वितरित किया गया।
    Reported By
  ओमप्रकाश गुप्ता मोतिहारी

statue of unity on olx : जब Olx पर सेल के लिए आया statue of unity ?

जनबोल न्यूज

एक तरफ पुरा देश कोरोना की महामारी से परेशान है। राष्ट्रपति से लेकर सांसद निधि तक में कटौती हो रही है।

लॉक डाउन के पहले दिन से statue of unity पर खर्च किये गए पैसों की तुलना अस्पताल पर किये जा रहे पैसों से किया जा रहा था।

एक व्यक्ति  ने इन सबसे आगे बढ़ते हुए OLX पर statue of unity को हीं Sale  पर लगा दिया।

हालांकि statue of unity बेचने  का दावा करने वाला व्यक्ति चुकि इसके लिए अधिकृत नही था इस आधार पर केस दर्ज कर दिया गया है।   ऑनलाइन विज्ञापन देने वाले व्यक्ति के खिलाफ नर्मदा जिले की केवडिया पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।

ओएलएक्स वेबसाइट पर दिए गए इस विज्ञापन में स्टैच्यू की कीमत 30 हजार करोड़ लगाई गई थी।

विज्ञापन में कहा गया था कि स्टैच्यू बेचकर कोरोना का इलाज करने में जुटे अस्पतालों और इसकी सुविधाओं पर होने वाले सरकार के खर्च की भरपाई की जाएगी।
आपको बता दें की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी सरदार पटेल का स्मारक है।

इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2018 में किया था।

इसकी ऊंचाई 182 मीटर है और यह दुनिया की सबसे बड़ी स्टैच्यू है।

 

शनिवार को विज्ञापन olx पर आया  था

केवडिया पुलिस स्टेशन के अधिकारियों के मुताबिक, किसी अनजान व्यक्ति ने शनिवार को यह विज्ञापन दिया था।

मीडिया में   खबर आने के बाद स्मारक की देखरेख करने वाले अधिकारियों को इसका पता चला।

उन्होंने पुलिस से संपर्क किया, जिसके बाद कार्रवाई की गई।

विज्ञापन देने वाले के खिलाफ आईपीसी के तहत धोखाधड़ी, महामारी कानून और आईटी कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है।

 

MPLAD postponed for two year :दो साल के लिए सांसद निधि स्थगित, कोरोना से निपटने में होगा खर्च।

Janbol News 

कोरोना वायरस महामारी के संकट को देखते हुए सोमवार को कैबिनेट मीटिंग में अहम फैसला लिया गया है।

इसके तहत सांसद निधि को दो साल के लिए टाल दिया गया वही राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल समेत तमाम सांसदों ने भी अपने वेतन का 30 फीसद योगदान देने का फैसला लिया है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी है।

1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसद तक कम किया जाएगा।

कैबिनेट मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, कैबिनेट ने भारत में महामारी के प्रतिकूल प्रभाव के प्रबंधन के लिए 2020-21 और 2021-22 के लिए सांसदों को मिलने वाले MPLAD फंड को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है।

2 साल के लिए MPLAD फंड के 7900 करोड़ रुपये का उपयोग भारत की संचित निधि में किया जाएगा।’

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रीजावड़ेकर ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया, ‘दो साल के लिए सांसद निधि स्‍थगित कर दी गई है।
राष्‍ट्रपति-उपराष्‍ट्रपति-राज्‍यपाल भी 30 फीसद कम सैलरी लेंगे।’

 उन्‍होंने कहा, ‘राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक ज़िम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है।
यह धनराशि भारत के समेकित कोष में जाएगा।’
कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट (Union Cabinet) की बैठक का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए कराया गया ।
बैठक की अध्‍यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी।
पहली बार मंत्रिमंडल की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित कराई गई थी।
राष्‍ट्रीय राजधानी स्‍थित 7 लोक कल्‍याण मार्ग (7 Lok Kalyan Marg) में 25 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई थी जिसमें ‘सोशल डिस्‍टेंसिंग (COVID-19)’ को फॉलो किया गया।
बैठक में कुर्सियां दूर-दूर लगाई गई थी। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए एहतियात के तौर पर सोशल डिस्‍टेंसिंग (social distancing) को अपनाने की सलाह दी गई है।

तेजी से फैलते कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए सोशल डिस्‍टेंसिंग को जरूरी बताते हुए पिछले माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Modi) ने पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन का ऐलान किया था जिसे  14 अप्रैल तक खत्म होने की संभावना है।

देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बीमारी के संक्रमण के चेन को रोकने के लिए यह जरूरी है और एक्‍सपर्ट का कहना है कि इसके लिए कम से कम 21 दिन चाहिए।

Law against spitting on public place : इधर-उधऱ थूके तो जाना होगा हावालात में।

Janbol News
यदि आपको भी आदत है इधर उधर तुकने का तो अब महंगा पर सकताहै।दरअसल मोतिहारी  जिला पदाधिकारी श्री कपिल शीर्षत अशोक ने एक आदेश जारी कर तंबाकु अथवा कोई अन्य पदार्थ खाकर यत्र-तत्र थूकने पर छह माह का कैद अथवा 200 रुपये जुर्माने का निर्देश दिया है। जिला पदाधिकारी ने बताया कि खैनी और गुटका खाकर यत्र तत्र थूकने से बढ़ता है corona virus  के फैलने का खतरा ज्यादा है। अतः जिले के सभी सरकारी, गैर सरकारी कार्यालय एवं परिसर, सभी स्वास्थ्य संस्थान, सभी शैक्षणिक संस्थान, थाना परिसर आदि में किसी भी प्रकार का तंबाकू पदार्थ, सिगरेट, खैनी, गुटखा, पान मसाला, जर्दा आदि के उपयोग को पूर्णत: प्रतिबंधित करने का निर्देश दिया गया है। यदि कोई भी अधिकारी, कर्मचारी अथवा आगंतुक इसका उल्लंघन करते हैं तो उनके खिलाफ कानून के अनुरूप कार्रवाई होगी।
जिला पदाधिकारी  ने पुलिस अधीक्षक एवं डीडीसी सहित सभी एसडीओ, बीडीओ, सीओ को इस कानून का अनुपालन सुनिश्चित कराने एवं उल्लंघन करने पर कार्रवाई का निर्देश दिया है। साथ ही सभी सरकारी / गैर सरकारी परिसरों में उक्त आशय का बोर्ड लगवाने के निर्देश दिया है।
विदित हो कि कोरोना संक्रमण को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने महामारी घोषित कर दिया है। इससे बचाव के लिए बिहार सहित पुरे देश में जहां लॉकडाउन किया गया है वहीं कई तरह के दिशा-निर्देश भी जारी दिए गए हैं।
 डीएम द्वारा जारी निर्देश में कहा गया है कि तंबाकू का सेवन जन स्वास्थ्य के लिए बड़े खतरों में से एक है। थूकना एक सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा है और संचारी रोग के फैलने का एक प्रमुख कारण है। तंबाकू सेवन करने वाले की प्रवृति यत्र-तत्र थूकने की होती है। थूकने के कारण कई गंभीर बीमारी यथा कोरोना, इंसेफलाइटिस, यक्ष्मा, स्वाइन फ्लू आदि का संक्रमण फैलने की आशंका रहती है। भा.द.वि. (IPC) की धारा 268 एवं 269  के तहत कोई भी व्यक्ति यदि महामारी के अवसर पर उपेक्षापूर्ण अथवा विधि विरूद्ध कार्य करेगा जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रमण हो सकता है तो उसे छह माह का कारावास एवं अथवा 200 रुपये जुर्माना किया जा सकता है।
बिहार में तम्बाकू नियंत्रण हेतु राज्य सरकार  की तकनीकी संस्थान सोसिओ इकोनॉमिक एंड एजुकेशनल डेवलोपमेन्ट सोसाइटी (सीड्स) के कार्यपालक निदेशक श्री दीपक मिश्र ने जिला पदाधिकारी द्वारा निर्गत आदेश का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है कि इससे तम्बाकू के उपयोग में कमी आएगी साथ ही कोरोना जैसी महामारी फैलने का खतरा कम रहेगा।
श्री मिश्र ने बताया कि हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संघठन और भारत सरकार द्वारा प्रकाशित GATS 2 के सर्वे में बिहार में तम्बाकू सेवन करने वालों में कमी आई है, यह आंकड़ा पिछले 7-8 साल में 53.5% से घट कर 25.9% हो गया है। जिसमें चबानेवाले तम्बाकू सेवन करने वालों का प्रतिशत 23.5% है।.
Reported By
ओमप्रकाश गुप्ता, मोतिहारी

AES awareness van released: चमकी बुखार के प्रति जागरूकता  हेतु वाहनों को  किया रवाना

Janbol News
मोतिहारी, 4 मार्च समाहरणालय के निकट बाल उद्यान से प्रखंडवार और पंचायतवार AES/JE(चमकी बुखार) के संबंध में आम नागरिकों को जागरूक करने के उद्देश्य से प्रचार वाहनों को रवाना किया गया।
उक्त अवसर पर जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक ने बताया कि आज रवाना किए गए प्रचार वाहनों के माध्यम से आम नागरिकों को AES/JE(चमकी बुखार) के संबंध में समग्र रूप से जागरूक किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि आम नागरिकों की सहायता हेतु/प्राप्त सूचना के आधार पर त्वरित और प्रभावकारी कारवाई के उद्देश्य से जिला नियंत्रण कक्ष(दूरभाष संख्या:06252242418/06252296406) सतत कार्यशील है।

आम नागरिकों से साफ/सफाई के मानकों का सतत अनुपालन अपेक्षित है,जो न केवल AES/JE से बचाव में सहायक है बल्कि COVID :19 से बचाव हेतु अति आवश्यक है।जिलाधिकारी ने जानकारी दी कि उक्त प्रचार वाहनों के माध्यम से प्रखंडवार/पंचायतवार निर्धारित रूट चार्ट के अनुसार लगभग दो महीनों तक प्रचार प्रसार किया जाएगा एवम् उत्पन्न परिस्थिति के अनुसार प्रचार वाहनों/मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत प्राप्त वाहनों का उपयोग चिकित्सीय प्रयोजन हेतु किया जाएगा।प्रचार वाहन रवानगी के अवसर पर सिविल सर्जन/अपर समाहर्ता/अपर समाहर्ता(आपदा प्रबंधन)/अनुमंडल पदाधिकारी,सदर/निदेशक डीआरडीए सहित अन्य स्वास्थ्यकर्मी आदि उपस्थित थे।उक्त कार्यक्रम पश्चात जिलाधिकारी ने सदर अनुमंडल अवस्थित Hotel S.S.exotica एवम् Hotel Ramsan Plaza का निरीक्षण किया। COVID:19 संक्रमण के कारण उत्पन्न आपातकालीन परिस्थिति से निपटने क्रम में आज निरीक्षण किए गए उक्त  होटल का उपयोग आइसोलेशन सेंटर/Quarantine centre हेतु किया जाना प्रस्तावित है।
      Reported By
ओमप्रकाश गुप्ता मोतिहारी

Biggest isolation ward in bihar : पटना नहीं यहाँ है बिहार के सबसे ज्याद बेडों वाला Isolation Ward :

Janbol News

कोरोना की महामारी से पूरी दुनिया परेशान है।

भारत और बिहार में भी हर रोज मरीजों  की संख्या बढ़ रही है। अबतक बिहार में में कोरोना के कुल 32 मामले सामने आ चुके हैं।

वैसे बिहार की राजधानी पटना है । पटना यानी बिहार के बड़े बड़े बाबुओं का शहर।

राजधानी होने की वजह से आशा किया जाता है कि corona से बचाव के लिए सबसे ज्यादा बेड वाला आइसोलेशन वार्ड भी यहीं होना चाहिए।

अगर आप भी ऐसा सोंच रहे होंगे तो आप गलत हैं।

आइसोलेसन वार्ड में बेडों की संख्या के मामले में पश्चमी चम्पारण ने सब को पिछे छोड़ दिया है।

हालहीं में बेतिया में कोरोना से लडऩे के लिए यहां 132 बेड का एक और आइसोलेशन वार्ड महज दस दिनों में बनाकर तैयार किया गया है।

गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, बेतिया में पहले से  हीं 100 बेड का आइसोलेशन वार्ड मौजूद था।

यदि हालहीं में तैयार 132 बेड वाले इस वार्ड के बेडों की संख्या को  जोड़ दिया जाए तो कुल 232 बेड का वार्ड हो जाएगा।

बेडों के मामले में प्रदेश के अन्य जिलों की तुलना में यह संख्या सबसे  अधिक है।

अतिरिक्त भवन में बने 132 बेड वाले आइसोलेशन वार्ड में सभी तरह की सुविधाएं हैं।

पाइपलाइन से आक्सीजन आपूर्ति के साथ आइसीयू एवं वेंटिलेटर तक की व्यवस्था है।

मामले को हैंडल करने के लिए 30 मॉनीटर भी लगाए गए हैं।

इन मॉनिटरों के माध्यम से मरीजों के हार्ट, लंग्स, ब्रेन, बीपी आदि की निगरानी ऑनलाइन की जाएगी।

वार्ड में  सीसीटीवी की भी व्यवस्था की गयी है, ताकि कक्ष में बैठे चिकित्सक निगरानी कर सकें।

जाने कहाँ है कितना वार्ड

होटल पाटलीपुत्र पटना 200 वेड , जवाहरलाल मेडिकल कॉलेज, भागलपुर में 100 बेड, डीएमसीएच दरभंगा में 112, एएनसीएच गया में 100, कटिहार मेडिकल कॉलेज में 100, महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज किशनगंज में 100, राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय मधेपुरा में 100 तथा एसकेएमसीएच में 100 बेड का ही आइसोलेशन वार्ड है।

Corona impact on election : बिहार विधान परिषद चुनाव टला,यह बतायी गयी वजह ।

Janbol News

निर्वाचन आयोग ने बिहार विधान परिषद की आठ सीटों पर होने वाले चुनाव को टाल दिया है।

यह निर्णय कोरोना से बचाव के लिए चल रहे लॉकडाउन की वजह सेलिया गया है।

निर्वाचन आयोग ने कहा है कि स्थिति की समीक्षा के बाद में चुनाव की नई तारीख तय की जाएगी।

राज्य के सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ मदनमोहन झा, भाजपा के प्रवक्ता प्रो नवल किशोर यादव एवं निर्दलीय देवेशचंद्र ठाकुर के अलावा परिषद के चार अन्य सदस्यों का कार्यकाल छह मई 2020 को समाप्त होने वाला है।

निर्वाचन आयोग के अवर सचिव फ्रफुल्ल अवस्थी के मुताबिक मतदान की तारीख के करीब चार सप्ताह पहले से तैयारी करनी होती है।

कोरोना के कारण लॉकडाउन के चलते परिवहन का परिचालन नहीं हो रहा है।

यही नहीं कोरोना से बचाव का एक बड़ा उपाय एक-दूसरे से दूरी बनाकर रहने  भी  है।

लिहाजा, परिषद की स्नातक एवं शिक्षक क्षेत्रों के चुनाव तय समय पर संभव नहीं हैं।

विधान परिषद की इन सीटों का चुनाव टला है- पटना, दरभंगा एवं तिरहुत: शिक्षक एवं स्नातक, सारण: शिक्षक, कोसी: स्नातक।

गुरुग्राम में फंसे चंपारण,  खगड़िया और मुजफ्फरपुर के 300 से ज्यादा लोगों की मदद के लिए आगे आए समाजसेवी सर्वेश तिवारी

जनबोल न्यूज
पहाड़पुर, 3 अप्रैल 2020 :  महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस को रोकने के लिए लॉकडाउन का पालन ज़रूरी है तो जरूरतमंदों के भूख मिटाने का इंतज़ाम भी करना आवश्यक है। इस मुश्किल वक़्त में बाहर काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर जो अपने गांव-घर लौट आए हैं उनका गुजारा तो किसी तरह चल रहा है, लेकिन सबसे बड़ी चुनौती बाहर के शहरों में फंसे ऐसे लोगों के लिए है। लॉकडाउन के कारण उन्हें काम नहीं मिला रहा है, जिससे खाने के लाले पड़े हुए हैं। गुरुग्राम में फंसे चंपारण, खगड़िया और मुजफ्फरपुर के ऐसे 300 जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए स्थानीय समाजसेवी सर्वेश तिवारी आगे आए हैं। सर्वेश तिवारी ने 300 लोगों को 15 दिनों का राशन-पानी उपलब्ध करवाया है। जिसमें आटा, चावल, दाल, तेल, नमक, चीनी, मिर्च, मसाला और आचार समेत अन्य आवश्यक सामाग्री दिया गया है।

दरअसल, गुरुग्राम में फंसे बिहार के ज़्यादातर लोगों के पास राशन कार्ड नहीं होने से वो सरकारी मदद से वंचित हैं। ऊपर से लॉक डाउन के कारण काम नहीं मिलने से दिहाड़ी मजदूरों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था करना भी चुनौतीपूर्ण होता जा रहा है। जिनके पास बचत के कुछ पैसे हैं भी उन्हें भी लॉकडाउन के कारण बाहर जाकर राशन सामाग्री लाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे लोगों के लिए सर्वेश तिवारी का यह सहयोग बहुत मददगार साबित हो रहा है।
गुरुग्राम में फंसे लोगों में से पहाड़पुर के इनरवाभार पंचायत निवासी सलमान ने बताया कि “ मैं और मेरे 40 से अधिक दोस्त गुरुग्राम में फंसे हुए हैं। काम बंद है तो राशन-पानी की व्यवस्था करना भी मुश्किल हो रहा था। मैंने सर्वेश तिवारी जी को फोन के जरिए अपनी समस्याएं बताई और उन्हें आनन-फानन में हमें 15-20 दिन का राशन उपलब्ध करवा दिया। इस मुश्किल परिस्थिति में परिवार से दूर एक परिवार की तरह हमारे साथ खड़े होने के लिए हम सभी उनका धन्यवाद करते हैं। “
वहीं, लाभान्वित होने वाले पकड़िया निवासी वैद्यनाथ महतो ने बताया कि “मेरे आस-पास के और भी बहुत सारे लोग हैं जिन्हें बाहर जाकर राशन खरीदने में मुश्किल हो रही थी। हमें सरकारी राशन भी नहीं मिल रहा था इसलिए हमने अपने अपने गांव के लोगों की मदद से सर्वेश तिवारी जी से संपर्क किया। उन्होंने हमारे कमरे तक ढेर सारा राशन भिजवा दिया है जिससे अब आराम से अगला 15-20 दिन कट जाएगा। हमारी सारी निराशा खुशी में बदलने के लिए बड़े भाई सर्वेश तिवारी मसीहा बनकर आए हैं।“
सोशल साइट्स के जरिए भी लोग लगा रहे हैं मदद की गुहार :
सर्वेश तिवारी ने चंद रोज पहले सोशल साइट्स पर मदद से संबन्धित पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने लिखा था कि गुरुग्राम और देश के अन्य शहरों में फंसे पूर्वी चंपारण लोगों से भोजन और खाद्य पदार्थों के जरूरत के लिए संपर्क करने को कहा था। संदेश के साथ सर्वेश तिवारी ने अपना मोबाइल नंबर भी जारी किया था, जिसके बाद गुरुग्राम समते गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और मध्य प्रदेश में में फंसे पूर्वी चंपारण के सैकड़ों लोगों ने उनसे मदद की गुहार लगाई। इसके बाद जरूरतमंदों को 15 दिनों का राशन उपलब्ध करवाया गया। सिर्फ पूर्वी चंपारण ही नहीं बल्कि देश भर के शहरों में फंसे बिहार के अन्य जिलों के निवासियों की मदद के लिए भी वह लगातार हाथ बढ़ा रहे हैं।
इस पहल को लेकर समाजसेवी सर्वेश तिवारी ने बताया कि “किसी भी आर्थिक झटके से सबसे अधिक प्रभावित समाज के हाशिये पर रहने वाले लोग ही होते हैं। ये लोग दिहाड़ी मज़दूरी पर गुज़र-बसर करते हैं। इनके पास अचानक आमदनी बंद होने से आई किसी मुश्किल का सामना करने के लिए बचत के नाम पर कुछ नहीं होता है। लॉकडाउन के कारण समाज का यही वो तबक़ा है जो सबसे ज्यादा मुश्किल में है। मेरी कोशिश है कि देश भर में फंसे पूर्वी चंपारण और इसके आस-पास के ऐसे लोगों तक इस मुश्किल समय में मदद पहुंचा सकूँ। “
निर्भया केस समेत कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर कर चुके हैं काम
मालूम हो कि, पूर्वी चंपारण जिले के पहाड़पुर के गांव विशुनपुर मटियरिया निवासी समाजसेवी सर्वेश तिवारी बेहतर समाज निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है। बिहार के अलावा  हरियाणा में ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान, दिल्ली में ‘रन फॉर तिरंगा’ अभियान और ‘चाइल्ड राइट्स’ जैसे अभियानों में असीम योगदान देते रहे हैं। यही नहीं, निर्भया के माता-पिता द्वारा संचालित निर्भया ज्योति ट्रस्ट के महासचिव के रूप में भी उन्होंने निर्भया को न्याय दिलाने और किशोर न्याय बोर्ड के पुनर्गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है
      Reported By
ओमप्रकाश गुप्ता मोतिहार

MODI COPIED IDEA OF LIGHTING TOURCH : अपना नहीं है प्रधानमंत्री का टार्च जलाने वाला आइडिया , जाने सच कहाँ से कॉपी किया?

जनबोल न्यूज      

जब से कोरोना महामारी फैला तब से प्रधानमंत्री लगातार जनता से संवाद कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी सबसे पहले जनता कर्फ्यू की सूचना देने के लिए 20 मार्च को मुखातिब हुए थे।

जनता से मुखातिब होते हुए उन्होने आग्रह किया था कि स्वास्थ्य कर्मियों के हौसला अफजाई के लिए आप शाम पांच बजे पांच मिनट के लिए ताली थाली या घंटी बजाएँ।

प्रधानमंत्री के कहे अनुसार भर दिन जनता कर्फ्यू का लोगों ने पालन किया था।

लेकिन ताली थाली और घंटी बजाने में एक कदम आगे बढ़ते हुए कई जगह सड़कों पर चले आए थे।

हालांकि यह कार्रवाई  प्रधानमंत्री के संदेश के ठीक विपरित था।

इसबार थाली नहीं पिटनी टार्च जलानी है।

प्रधानमंत्री एकबार फिर सामने आकर  लोगों से एकबार एकजूटता प्रदर्शीत करने की बात किए हैं।

आपमें से भी कई लोग प्रधानमंत्री के उस संबोधन को सुना होगा और सोंच रहे होंगे भला यह क्या लॉजिक हुआ।

कभी थाली बजानी है तो कभी दिया टार्च और मोमबती जलानी है लेकिन क्या आप जानते है प्रधानमंत्री मोदी ने यह विचार कहाँ से लाया है?

एक राष्ट्रीय दैनिक अखबार के बेव पोस्ट पर प्रकाशित खबर के अनुसार  अमेरिका के बेवर्ली हिल्‍स (Beverly Hills) में 31 मार्च 2020 को दक्षिण पूर्व मिशिगन (Michigan) में कोरोना वायरस बीमारी से जंग लड़ रहे स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के प्रति लोगों ने समर्थन का इजहार किया।

समर्थन का इजहार करते  हुए लोगों ने अपने घर के करीब स्‍थित अस्‍पतालों की ओर फ्लैशलाइट जलाई थाी।

संभवत : वहाँ से हीं मोदी जी ने आइडिया कॉपी किया है।

Nrendra Modi Message on corona : प्रधानमंत्री ने फिर मांगा 9 मिनट लेकिन इसबार थाली नहीं बजानी है….

Janbol News

प्रधानमंत्री मोदी कोरोना महामारी पर संदेश देने के लिए इधर कुछ दिनों से लगातार लाईव आ रहे हैं।

सबसे पहली बार जब मोदी लाईव आकर जनता को संबोधित किये थे तो जनता कर्फ्यू के साथ शाम पांच बजे थाली पिटने का भी आग्रह किया था।

पीएम के आग्रह के कारण लोग थाली तो पिटे लेकिन सोशल डिस्टेंसींग का मजाक बनाते हुए कई जगह सड़क पर भी आगए थे।

प्रधानमंत्री लोगों की कार्रवाई पर भी अपना मंतव्य दियाा।

कोरोना वायरस से लड़ रहे देश के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज संदेश दिया।

आज पीएम ने सुबह 9 बजे लोगों के साथ एक वीडियो संदेश साझा किया।

पीएम ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि इस रविवार 5 अप्रैल को रात 9 बजे घर की सभी लाइटें बंद करके 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।

वीडियो संदेश में पीएमने कहा कि हम सबको मिलकर कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देनी है, उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है।

इस 5 अप्रैल को हमें, 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है।

इस दौरान घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में, खड़े रहकर, 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये लॉकडाउन का समय जरूर है, हम अपने अपने घरों में जरूर हैं, लेकिन हम में से कोई अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ है।

हमारे यहां माना जाता है कि जनता जनार्दन, ईश्वर का ही रूप होती है।

इसलिए जब देश इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा हो, तो ऐसी लड़ाई में बार-बार जनता रूपी महाशक्ति का साक्षात्कार करते रहना चाहिए

आपको बतादें की  कोरोना वायरस से निपटने के उपायों पर चर्चा के लिए गुरुवार को हीं  पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मुख्यमंत्रियों से बातचीत की थी।

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोरोना वायरस के मरीजों के लिए अलग और विशेष अस्पतालों की जरुरत है।

पीएम ने लॉकडाउन के फैसले का समर्थन करने के लिए राज्यों को भी धन्यवाद दिया था।

इस बैठक में पीएम मोदी के साथ गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य प्रमुख लोग मौजूद थे।

Soap give to sangrampur phc : भाजपा जिलाध्यक्ष ने संग्रामपुर  PHC प्रभारी को साबुन और मास्क सौंपा।

Janbol News
भारतीय जनता पार्टी मोतिहारी लगातार 24 घंटा इस महामारी में डटे कर्मियों के लिए सुरक्षा व्यवस्था मुहैया करवा रहा है।
इसी के तहत आज जिलाध्यक्ष भाजपा प्रकाश अस्थाना ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संग्रामपुर के प्रभारी डॉक्टर घनश्याम राय  को सांसद मोतिहारी सह पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह द्वारा उपलब्ध कराया गया 3 प्लाई मास्क एवं डिटॉल साबुन सुपुर्द किया।
उक्त अवसर पर पूर्व जिलाध्यक्ष भाजापा सुनील मणि तिवारी एवं जिला महामंत्री मार्तण्ड नारायण सिंह ,रामशरण यादव,मंडल अध्यक्ष वकिल चौधरी, परमानंद पाण्डेय, दिपेन्द्र कुमार,राहुल सिंह उपस्थित थे।
  Reported By
आलोक सिंह संग्रामपुर

corona impact on Ramnaumi : ऐतिहासिक मेला  पर भारी रहा कोरोना का प्रभाव

रामनवमी को कोरोना महामारी ने फिका कर रखा है।
पूरे देश में महामारी के कारण कहीं भी रामनवमी का मेला देखने को नही मिला ।
इसका असर मोतिहारी के लवकुश जन्मस्थली  अरेराज प्रखण्ड के  मुड़ पंचायत दीघा मठ मेला पर भी दिखा।
 मालुम हो कि भारतीय सस्कृति की ऎतिहसिक धरोहर लव कुश की जन्मस्थली अरेराज प्रखंड के मुड़ा पंचायत में स्थित दीघा मठ मेला जो रामनवमी के शुभ अवसर पर सदियों पुरानी परम्परा थी।

लेकिन यह मेला भी कोरोनावायरस के भेंट चढ़ गई।
 आम तौर पर हर साल यहाँ रामनवमी के अवसर पर सूर्योदय से ही पूजार्चना,शंख – घंटे की गूंज और श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता था।
मेला में  बच्चें – बूढ़े ,जवान, गीत गाती स्त्रियों का झुंड , बेल  लहसुन ,मसाले ,फल ,खिलौने , मिट्टी के बर्तन,स्त्री श्रृंगार आदि आदि के दुकाने लगा करती थी लेकिन आज यह स्थल इन सब के  जगह शांति फैली रही।
लॉकडाउन की वजह से  स्थानीय श्रद्धालुओं में निराशा के भाव देखने को साफ मिला।
यही नहीं कई श्रद्धालु  कोरोना वायरस को कोसते नजर आए।
     Reported By
 बाबुजान हुसैन, अरेराज

MP R M SINGH provides mask to police : मोतिहारी सांसद आर एम सिंह ने, पुलिसकर्मियों के लिए 1500 थ्री प्लाई मास्क कराया उपलब्ध।

सांसद मोतिहारी,चैयरमैन रेलवे स्टैंडिंग कमिटी सह पूर्व कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह द्वारा आज मोतिहारी संसदीय क्षेत्र अंतर्गत मोतिहारी पुलिस लाइन एवं पुलिस ऑफिस के अलावे महिला थाना, अनुसूचित थाना, नगर थाना सहित 26 थानों के लगभग 1500 पुलिसकर्मियों के लिए 1500 थ्री प्लाई मास्क एवं 28 स्थानों पर स्थित कार्यालयों के लिए 200 डिटॉल साबुन आज उपलब्ध कराया।
उक्त सामग्रियों को जिलाध्यक्ष भाजपा प्रकाश अस्थाना ने सुपुर्द किया।
        श्री सिंह ने जारी विज्ञप्ति के माध्यम से कहा कि कोरोना वायरस दुनियां में अपने पैर पसार चुका है।
अपने देश में इसकी रोकथाम के लिए विश्व के लोकप्रिय नेता, हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री जी ने दूरदर्शिता दिखाते हुए पूरे देश में लॉक डाउन की घोषणा की।

     श्री सिंह ने कहा कि इस चिलचिलाती भीषण गर्मी में सभी पुलिस कर्मी अपना-अपना घर छोड़कर आम जन-जीवन की रक्षा हेतु लॉक डाउन यानि घर में रहें-सुरक्षित रहें के अभियान में लगे हैं। श्री सिंह ने कहा कि जिला के अन्य थानों के लिए भी यह सामग्री कल उपलब्ध कराई जायेगी।
          मौके पर जिला महामंत्री द्वय डॉ०लालबाबू प्रसाद एवं मार्तण्ड नारायण सिंह के अतिरिक्त संयोजक आईटी सेल पंकज सिन्हा मौजूद थे।
     उक्त आशय की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी,भाजपा गुलरेज शहजाद ने जारी विज्ञप्ति के माध्यम से दी।
Reported By
 ओमप्रकाश गुप्ता मोतिहारी

SDM APPEALED TO COMMON MAN : अरेराज SDPO और SDM का सब्जी विक्रेता व आम जन से अपील।

Janbol News

अरेराज अनुमंडल SDM और SDPO ने आम जनों से अपील किया है। उन्होने कहा है-

अरेराज अनुमंडल के निवासियों के द्वारा अबतक लाॅकडाउन के अनुपालन में अभूतपूर्व सहयोग दिया गया है ।

आप सबों के सहयोग का ही परिणाम है कि अनुमंडल क्षेत्र में लाॅकडाउन काफी हद तक सफल रहा है ।

आप सबों का सहयोग और समर्थन ही हमारी ताकत है ।
किंतु आप सब ने यह भी अनुभव किया होगा कि आपकी और हमारी सारी कोशिशें सब्जी मंडी में आकर दम तोड़ देती हैं।

इन मंडियों में होने वाली भीड़ और कुछ लापरवाह लोगों की वजह से social distancing के सारे प्रयासों पर पानी फिर जाता है और हमारी-आपकी सारी कोशिशें बेकार हो जाती हैं ।

इसे कुछ लोगों की लापरवाही या बेवकूफी मानकर अनदेखा भी नहीं किया जा सकता क्योंकि कोरोना संक्रमण के इस दौर में किसी की भी लापरवाही पूरे समाज को भारी पड़ सकती है।

अत: आप सभी से अनुरोध है कि फल-सब्जी की खरीदारी इस तरह से करें कि प्रतिदिन बाजार जाने की जरूरत न पड़े। हो सके तो एक दिन बीच कर सब्जी खरीदें । सब्जी वाले को ठेले से घर तक सब्जी पहुँचाने को प्रेरित करें । सब्जी मंडी में भी social distancing का ध्यान रखें एवं विक्रेता को भी इसका महत्व समझाएं। विक्रेता यदि सहयोग न करें तो हमें सूचित करें ।
याद रखें, किसी एक व्यक्ति द्वारा की गई लापरवाही हो या किसी एक स्थान पर की गई लापरवाही, खामियाजा पूरे समुदाय को उठाना पड़ सकता है ।

Reported By

ओमप्रकाश गुप्ता, मोतिहारी