MODI COPIED IDEA OF LIGHTING TOURCH : अपना नहीं है प्रधानमंत्री का टार्च जलाने वाला आइडिया , जाने सच कहाँ से कॉपी किया?

Health TOP STORY राजनीति

जनबोल न्यूज      

जब से कोरोना महामारी फैला तब से प्रधानमंत्री लगातार जनता से संवाद कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी सबसे पहले जनता कर्फ्यू की सूचना देने के लिए 20 मार्च को मुखातिब हुए थे।

जनता से मुखातिब होते हुए उन्होने आग्रह किया था कि स्वास्थ्य कर्मियों के हौसला अफजाई के लिए आप शाम पांच बजे पांच मिनट के लिए ताली थाली या घंटी बजाएँ।

प्रधानमंत्री के कहे अनुसार भर दिन जनता कर्फ्यू का लोगों ने पालन किया था।

लेकिन ताली थाली और घंटी बजाने में एक कदम आगे बढ़ते हुए कई जगह सड़कों पर चले आए थे।

हालांकि यह कार्रवाई  प्रधानमंत्री के संदेश के ठीक विपरित था।

इसबार थाली नहीं पिटनी टार्च जलानी है।

प्रधानमंत्री एकबार फिर सामने आकर  लोगों से एकबार एकजूटता प्रदर्शीत करने की बात किए हैं।

आपमें से भी कई लोग प्रधानमंत्री के उस संबोधन को सुना होगा और सोंच रहे होंगे भला यह क्या लॉजिक हुआ।

कभी थाली बजानी है तो कभी दिया टार्च और मोमबती जलानी है लेकिन क्या आप जानते है प्रधानमंत्री मोदी ने यह विचार कहाँ से लाया है?

एक राष्ट्रीय दैनिक अखबार के बेव पोस्ट पर प्रकाशित खबर के अनुसार  अमेरिका के बेवर्ली हिल्‍स (Beverly Hills) में 31 मार्च 2020 को दक्षिण पूर्व मिशिगन (Michigan) में कोरोना वायरस बीमारी से जंग लड़ रहे स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के प्रति लोगों ने समर्थन का इजहार किया।

समर्थन का इजहार करते  हुए लोगों ने अपने घर के करीब स्‍थित अस्‍पतालों की ओर फ्लैशलाइट जलाई थाी।

संभवत : वहाँ से हीं मोदी जी ने आइडिया कॉपी किया है।

Janbol News Share !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *