जनबोल न्यूज

राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष श्री जगदानन्द सिंह ने राजद शिल्प कला प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष उमेश पंडित द्वारा दिये गये प्रदेश पदाधिकारियों की सूची को अनुमोदित कर दिया है।  राजद प्रदेश कार्यालय सचिव चन्देश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि राजेन्द्र शर्मा उर्फ कप्तान, प्रो0 योगेन्द्र पंडित. बृजकिशोर विश्वकर्मा, ज्ञानदत प्रजापति, लक्ष्मी कान्त प्रसाद, तुलसी पंडित धर्मराज कसेरा को प्रदेश उपाध्यक्ष, राजेश ठाकुर, गुदरी शर्मा, दिनेश कुमार दास, हरिचन्द्र प्रजापति, जफर जाहेदी, मनोज शर्मा, रामनाथ पंडित, प्रमोद तांती, अख्तर अंसारी, हैदर मियां, शंभू पंडित, उमेश कुमार साह, शंकर साव, राजेश रजक, कृष्ण कुमार अजय, लालबाबू पासवान को प्रदेश महासचिव, जावेद प्रवेज उर्फ पप्पू, संतोष गौड़ उर्फ बब्लू गौड़, प्रभुनाथ पंडित, गोपाल प्रसाद, मुन्ना पाल, अरूण स्वर्णकार, मथुरा पंडित, चन्दन कसेरा, रामनरेश पंडित, मिन्टू अंसारी, तेजनारायण पंडित, संजीव कुमार, मुकेश कुमार, रोहित कुशवाहा, पंकज रजक को प्रदेश सचिव, भूषण माली, राजाराम, कासिम चांद, शशि भूषण प्रसाद, संतोष प्रेमी, राजकुमार मालाकार, उमेश प्रसाद, राधे कृष्ण पंडित, अमित प्रणव, धनंजय कुमार, पिन्टू कुमार कसेरा, धर्मेन्द्र पंडित, गौतम कुमार, संजय रजक एवं प्रहलाद प्रसाद को राष्ट्रीय जनता दल शिल्पकला प्रकोष्ठ का कार्यकारिणी सदस्य मनोनीत किया गया है।

जनबोल न्यूज

बिहार प्रदेश राजद व्यवसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यालय तेजस्वी प्रसाद यादव के आवास पोलो रोड़ स्थित व्यवसायिक प्रकोष्ठ के अध्यच श्री रणविजय साहू के द्वारा पटना महानगर राजद व्यवसायिक प्रकोष्ठ के अहयदा के रूप में श्री अनिल गुप्ता को मनोयन पत्र दिया गया साथ ही इनके मनोयन पर उपस्थ्ति लोगे के द्वारा आशा व्यक्त किया गया इनके मनोयन से पटना महानगर वैश्य समुदाय एवं व्यवसायिक प्रकोष्ठ के लोगों में हर्ष और उत्साह का वातावरण होगा तथा लोगों का झुकाव राष्ट्रीय जनता दल को मजबूती प्रदान करेगा।
उक्त अवसर पर पटना महानगर राष्ट्रीय जनता के अध्यक्ष श्री महताब आलम, पूर्व प्रदेश राजद सचिव शैलेश यादव, राजद व्यवसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेष महासचिव बब्लू गुप्ता, रंजन कुमार सहित अनेको कार्यकर्ता उपस्थित थे।

जनबोल न्यूज

बख्तियारपुर विधानसभा क्षेत्र में बूथ लेवल राजद कार्यकर्ताओं की बैठक में स्थानीयपूर्व विधायक राजद श्री अनिरुद्ध कुमार यादव की अध्यक्षता में सैदपुर स्थित आवास पर स्थानीय स्तर पर बूथ लेवल कार्यकर्ताओं की बैठक की शुरुआत हरदासबीघा पंचायत से शुरु की गई.

इस बैठक में उक्त पंचायत के प्रमुख कार्यकर्ताओं से सलाह मशविरा किया गया ताकि राजद संगठन को स्थानीय स्तर पर मजबूत किया जाय और आगामी विधानसभा चुनाव में राजद प्रत्याशी को भारी बहुमत से जिताया जा सके .इस अवसर पर प्रदेश महासचिव श्यामनंदन कुमार यादव, मोहम्मद यूसुफ नगर पंचायत अध्यक्ष राजद बख्तियारपुर, कौशलेन्द्र यादव अध्यक्ष दनियावां राजद, कक्कू शर्मा, रविन्द्र शर्मा, भोनू बिंद, कारू पासवान, सुग्रीब महतो, खुसरूपुर राजद अध्यक्ष अरुण यादव, रमेश चौधरी पूर्व मुखिया, रामयत्न यादव रणजीत यादव झुलस यादव, बजरंगी यादव, सहित लगभग सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे, पूर्व विधायक अनिरुद्ध यादव ने कहा कि राजद को मजबूत करना है और तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमत्री बनाना है, श्यामनंदन कुमार यादव ने प्रदेश की हालत पर चर्चा करते हुए कहा कि राज्य को बीमारू अवस्था में पहुंचाने वाले नीतीश कुमार को सत्ता से हटाना बहुत जरूरी है और आमजनों के सहयोग से ही संभव है.

जनबोल न्यूज

आज राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेताओं द्वारा 1942 के क्रांतिवीर शहीदों को नमन किया गया. आज ही के दिन 11 अगस्त, 1942 को बिहार सचिवालय भवन पर राष्ट्रीय पताका फहराने के प्रयास में 7 वीर छात्रों द्वारा अंग्रेजों की गोलियाों का सामना करते हुए शहीद हुए सपूतों को बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

नेता प्रतिपक्ष ने बिहार विधान मंडल के मुख्य द्वार के सामने स्थित शहीद स्मारक पर जाकर फूलमाला चढ़ाकर श्रद्धा निवेदित किया तथा देष को स्वतंत्रता दिलाने में
उनकी कुर्बानी को याद किया। उन्होंने कहा कि इन वीर शहीदों की कुर्बानी के बदौलत ही देष आजाद हुआ और अंग्रेजों को भारत छोड़ना पड़ा।

इस अवसर पर फूलमाला चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों में राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेष अध्यक्ष जगदानन्द सिंह, राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एवं विधायक अब्दुलबारी सिद्दिकी, प्रदेष उपाध्यक्ष अषोक कुमार सिंह, प्रदेष प्रधान महासचिव आलोक कुमार मेहता, विधान पार्षद एवं अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेष अध्यक्ष प्रो0 रामबली सिंह चन्द्रवंषी, प्रदेष कार्यालय सचिव चन्देष्वर प्रसाद सिंह, युवा राजद के प्रदेष् अध्यक्ष मो0 कारी सोहैब, महिला राजद के प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर, प्रदेष महासचिव मदन
शर्मा, निर्भय अम्बेदकर, डाॅ0 पे्रम कुमार गुप्ता इत्यादि शामिल थे।

जनबोल न्यूज

राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि पिछले कई वर्षों से राज्य की एनडीए सरकार वृक्षारोपण के नाम पर भारी घोटाला और फर्जीवाडा करती रही है। एनडीए द्वारा सरकारी खजाने की राशि को हजम करने का यह काफी पुराना नुस्खा है। उसी नुस्खे के तहत कल भी बिहार पृथ्वी दिवस के अवसर पर साढे तीन करोड़ पौधा लगाने का दावा किया गया है। और हजारों करोड़ रुपये खर्च किये गये। इसमें कुछ पौधे तो कागज के पन्नों पर हीं लगा दिये जाते हैं और फोटो खिंचवाने के लिए जो पौधे लगाये भी जाते हैं कुछ दिनों के बाद उसे सुखा हुआ बता दिया जाता है। एनडीए शासन मे यह खेल काफी पुराना है।

राजद नेता ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2009 -10 और वित्तीय वर्ष 2010 -11 में मनरेगा योजना की राशि से राज्य के सभी ग्राम पंचायतों में वृक्षारोपण का सघन कार्यक्रम चलाया गया। काफी प्रचार प्रसार किया गया। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के फोटो के साथ बड़े-बड़े होर्डिंग और पोस्टर लगाये गये। एक-एक पंचायत में पाँच सौ से लेकर पाँच हजार पेड़ लगवाने का दावा किया गया। उसके देखभाल और सुरक्षा के नाम पर हजारों हजार करोड़ रूपये खर्च दिखलाये गये। पर आज कहीं एक भी पेड़ का दर्शन दुर्लभ है। कई बार जाँच की माँग हुई, सरकार द्वारा जाँच की घोषणा भी की गई। पर सब कागज के पन्नों में दब कर रह गया।

राजद नेता ने कहा कि राज्य के इस सबसे बड़े घोटाले में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका वन एवं पर्यावरण विभाग की है जो माननीय उप मुख्यमंत्री जी के जिम्मे है। उन्हें बताना चाहिए कि एनडीए शासनकाल के पन्द्रह वर्षों में राज्य में कुल कितने पेड़ और पौधे सरकार के स्तर पर लगाया गया। उसमें कितने पेड़ और पौधे का अस्तित्व बरकरार है। और अब तक कितनी राशि वृक्षारोपण और उसके रख-रखाव पर खर्च किए गए हैं ।

जनबोल न्यूज

अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के पूर्व अध्यक्ष श्री राहुल गाँधी ने कहा कि बिहार कांग्रेस का बड़ा स्वर्णिम इतिहास रहा है। भारत में सभी बड़े बदलाव की शुरूआत बिहार से ही होती है। उन्होंने कहा यह आज की बात नहीं है हजारों साल से चली आ रही है, स्वतंत्रता आंदोलन की शुरूआत भी गांधी जी ने पश्चिमी चम्पारण से की थी। किसी भी अत्याचार, नफरत, भ्रष्टाचार एवं क्रोध के खिलाफ लड़ाई की शुरूआत बिहार की धरती से ही होती है। आज के संदर्भ में यह काम बिहार में कांग्रेस ही कर सकती है। यह काम मिलकर करना होगा एक दूसरे की इज्जत और प्रतिष्ठा का ख्याल रखते हुये सारी विपक्षी ताकतों को एक साथ एक मंच पर लाने का काम कांग्रेस का है।

हमने फरवरी में कोरोना सुनामी की चेतावनी दी थी, आज आप देख रहे हैं कि कोराना के मामले में हम विश्वगुरू बनने जा रहे हैं। आज फिर मैं कह रहा हूँ कि बिहार एवं पूरा भारत आने वाले छ: महिने, साल भर के अंदर इससे भी बड़ा तूफान का सामना करने जा रहा है, वह है बेरोजगारी का, डूबती अर्थ व्यवस्था का। इसका कारण यह है कि मोदी जी ने और आर एस एस ने मिलकर हमारी संस्थागत ढाँचों को ध्वस्त कर दिया है जिसे कांग्रेस ने बनाया था। पूरे भारत में आज संवैधानिक ढाँचे ध्वस्त हो चुके हैं। हमारी युवा शक्ति जाया होगी। पर यह देश फिर खड़ा होना जानती है। ढाँचा, रोजगार, अर्थ व्यवस्था को फिर खड़ा हो सकता है लेकिन प्यार से नफरत से नहीं और यह काम सिर्फ कांग्रेस ही कर सकती है।

प्रधान मंत्री झूठ बोलते हैं, हमारे सैनिकों के बलिदान का भी उनको ख्याल नहीं है। कहते हैं चाइना भारत की जमीन पर नहीं घुसा है? यह कह कर हमारे बिहार रेजिमें के मारे गये बीस सैनिकों का यह अपमान ही तो कर रहे हैं। सीमा पर संकट के समय बिहार रेजिमेंट आगे बढ़कर दुश्मनों से लोहा लेता है। प्रधानमंत्री जी का पोल खुल चुका है उनके ही रक्षा मंत्रालय ने इस बात की पुष्टी कर दी की चाइना हमारी जमीन के अंदर घुसा है। मैंने जब यह सुना कि चाइना ने हमारा हमीन हड़प लिया और हमारे बीस जवानों को शहीद कर लिया तो गुस्से से मेरा खून खौल गया।

हम यहाँ यह भी बताना चाह रहे हैं कि सुशासन की बात करने वाले हमारे मुख्य मंत्री, विकास की बात करने वाले मुख्यमंत्री आज चुप क्यों हैं, उनकी जनता त्राहिमाम कर रही है। उनकी निष्क्रियता जग जाहिर हो चुकी है।

आज हम यहाँ यह कहना चाहते हैं कि अगली सरकार बिहार में हमारी होगी। हम मिलजुल कर सरकार बनायेंगे। बदलाव अब बिहार से शुरू होगा। हमारे मुख्य मुद्दे हैं रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य। रोजगार बड़े एवं लघु उद्योगों से मिलेगा। बिहार की शक्ति को फिर से संजोना पड़ेगा। प्यार और इज्जत से सहयोगी बनाना होगा और मिलकर निर्णय लेना होगा।

उन्होंने बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल एवं प्रदेश अध्यक्ष को यह निर्देश दिया कि शीघ्र सीटों के बँटवारे के मामले पर बातचीत कर उसे अंतिम स्वरूप दें। सारे विपक्ष से बात करें और चुनाव की लड़ाई शुरू करें।

कोरोना काल में सबसे ज्यादा बिहार सरकार असफल रही है। मजदूरों के बारे में यह सरकार बात नहीं करती, भ्रष्टाचार के बारे में बात नहीं करती,

में बात नहीं करती, बेरोजगारों के बारे में बात नहीं करती, हम करेंगे, कांग्रेस करेगी, बिहार कांग्रेस के साथ पूरा विपक्ष मिलकर करेगी और इस सरकार के खिलाफ लड़ेगी लेकिन सकारात्मक दृष्टिकोण एवं उपागम से।

श्री राहुल गाँधी आज सुबह 11.00 बजे प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष, कार्यकारी अध्यक्ष, अभियान समिति के अध्यक्ष, कांग्रेस सांसद एवं पूर्व सांसद, विधायक एवं पूर्व विधायक, प्रदेश कांग्रेस कमिटी के पदाधिकारी, जिला कांग्रेस कमिटी एवं प्रखण्ड कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष, मोर्चा संगठनों के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं को वीडिया संवाद से सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के महासचिव (संगठन) श्री के0सी0 वेणुगोपाल, एम०पी०, प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल एम०पी०, प्रदेश कांग्रेस के सह प्रभारी बीरेन्द्र सिंह राठौड़, श्री अजय कपूर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री तारिक अनवर एवं शत्रुघ्न सिन्हा, आई0टी0 विभाग के अध्यक्ष रोहण गुप्ता, प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डा0 मदन मोहन झा, कांग्रेस विधान मण्डल दल के नेता सदानन्द सिंह, प्रदेश कांग्रेस अभियान समिति के अध्यक्ष डा0 अखिलेश प्रसाद सिंह एम०पी०, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डा0 अशोक कुमार, श्याम सुन्दर सिंह धीरज, डा0 समीर कुमार सिंह, पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार के अलावे कांग्रेस के विधायक, पूर्व विधायक उपस्थित थे।

__श्री राहुल गाँधी ने बिहार के कांग्रेसजनों का आह्वान किया कि वे बिहार के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का सघन दौरा करें और बाढ़ प्रभावित लोगों को यथासम्भव सहायता पहुँचाये। उन्होंने कहा कि देश के साथ बिहार में भी कोरोना वायरस बड़ी तेजी से फैल रहा है तथा हमें इस पर भी नजर रखनी है।

देश में बढ़ती बेरोजगारी एवं अर्थव्यवस्था पर निशाना साधते हुए श्री राहुल गाँधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के शासनकाल में रोजगार के अवसर बढ़ाने पर जोर दिया गया था, जबकि देश के प्रधान मंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी के 2014 के लोकसभा चुनाव में 2 करोड़ युवाओं को प्रत्येक वर्ष नियोजित करने का वायदा किया था लेकिन आज देश में बिगड़ती अर्थ-व्यवस्था एवं दीर्घकालीन लाकडाउन के चलते बेरोजगार युवाओं की फौज लगातार बढ़ रही है।

श्री राहल गाँधी ने कहा कि बिहार में लाकडाउन कोरोना वायरस एवं बाढ के कारण वे कांग्रेसजनों से वर्चुअल संवाद स्थापित कर रहे हैं लेकिन आनेवाले समय में वे बिहार का व्यापक दौरा करेंगे एवं जिला एवं प्रखण्ड तक जायेंगे।

इससे पहले अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के महासचिव (संगठन) श्री के0सी0 वेणुगोपाल एम०पी०, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल एवं बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डा0 मदन मोहन झा ने कहा कि श्री राहुल गाँधी देश के भविष्य हैं और उनकी ही नहीं बल्कि बिहार के कांग्रेसजनों की भावना का आदर करते हुए उन्हें कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व संभालना चाहिए.

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल एम0पी0 एवं संगठन के महासचिव के0सी0 बेणुगोपाल एम0पी0 ने कांग्रेस पार्टी की डिजिटल सदस्यता अभियान की समीक्षा की और इसमें तेजी लाने का निर्देश दिया।

इस अवसर पर इस वर्चुअल संवाद को कांग्रेस विधान मण्डल दल के नेता सदानन्द सिंह, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सचिव बीरेन्द्र सिंह राठौर, अजय कपूर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री तारिक अनवर, शत्रुघ्न सिंहा, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डा0 अशोक कुमार, श्याम सुन्दर सिंह धीरज, डा0 समीर कुमार सिंह एम0एल0सी0, पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार, शकील उज्जमा अन्सारी ने भी सम्बोधित किया।

इस अवसर पर वर्चुअल संवाद में सदाकत आश्रम में प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष एच0के0 वर्मा एवं प्रवक्ता राजेश राठौड़ भी शामिल रहे।

जनबोल न्यूज

राजद  के आधार को विस्तारित करने के उद्देश्य से पार्टी  के प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह द्वारा शिल्पकार प्रकोष्ठ और स्वच्छकार
श्रमिक प्रकोष्ठ का गठन किया गया है।

उक्त जानकारी देते हुए पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने बताया कि श्री सिंह ने उमेश पण्डित को राजद शिल्पकार प्रकोष्ठ और सेवालाल अम्बेदकर को स्वच्छकार श्रमिक प्रकोष्ठ का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया है।

पार्टी के प्रदेश महासचिव निराला यादव, मदन शर्मा, डाॅ प्रेम कुमार गुप्ता, निर्भय अम्बेडकर, संजय यादव, प्रमोद राम सहित अनेक नेताओं ने उक्त दोनों के मनोनयन का स्वागत किया है ।

जनबोल न्यूज

साबिक़ डिप्टी मेयर जनाब ज़ेयाउल्लाह खां कल सुबह लंबी बीमार के बाद देहांत हो गया . जियाउल्लाह खां ने लंबे समय से राजद पार्टी से जुड़े थे और राजद में रहते हुए वे इस दुनियां से चल बसे. वो कैंसर से पीड़ित थे लंबी बीमारी के बाद उनका निधन हो गया .उनके जनाज़े की नमाज़ यतीम खाना फील्ड में पढ़ाई गई और तदफ़ीन का एहतेमाम जिन्नाती मस्जिद के क़ब्रिस्तान में किया गया.

जियाउल्लाह खां ने अपने राजनैतिक कैरियर की शुरूआत कांग्रेस से शुरू की थी. बाद में उन्होंने राजद ज्वाइन कर लिया . जियाउल्लाह खां की राजनीतिक विचारधारा चाहे जो भी रही हो, लेकिन वे अक्सर जमीन से जुड़े रहे, हमेशा लोगों के हितों के बारे में सोचते थे.

लोग बताते हैं कि ख़ान साहब के परिवार में हीं समाजसेवा भरा हुआ है। कोरोना संकट और लॉकडाउन में भी उन्होंने लोगों की खूब मदद की।वे नगर निगम के तीन बार वार्ड पार्षद और एक बार उप महापौर की कुर्सी पर रहे।

जनबोल न्यूज

राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा सरकारी सेवकों के 50 वर्ष पर सेवानिवृत्त करने का फैसला हिटलर शाही फरमान है। साथ ही कहा कि राजद की सरकार बनेगी तो नीतीश सरकार कीहिटलर शाही पत्र को निरस्त करेगी। राजद की सरकार में कोई भी कर्मचारी नहीं हटेगें वे अपनी सेवा पूर्ण देगें, सामान्य प्रशासन विभाग बिहार सरकार के ज्ञापांक-6832 दिनांक -23-07-2020 द्वारा निर्गत पत्र  सरकारी सेवकों जिनकी सेवानिवृत्त 60 वर्ष है। उनके 50 वर्ष उम्र होने पर
कार्य क्षमता या आचार- विचार की समीक्षा के आधार पर सेवानिवृत्त करने का प्रावधान कर दिया गया है।

जबकि बिहार सेवा संहिता के नियम 74(ख) (॥) में प्रावधान यह है कि कोई सरकारी सेवक इच्छा अनुसार प्रथम नियुक्ति के 21वर्ष और कुल सेवा के 25 वर्ष पूर्ण करने पर सेवानिवृत्त ले सकते हैं। स्पष्ट तौर पर जब सरकारी सेवक चाहे तब, परन्तु नये आदेश के मुताबिक उच्च स्तरीय कमेटी कर्मी का कार्य क्षमता या आचार, कार्य मुल्यांकन चारित्रिक को केंद्रित किया गया है। सरकार के इस फैसले से सेवा कर्मी में नाराजगी व विश्वास घटेगा। जिसका सीधा असर उसके कार्यो पर पड़ेगा। यहाँ तक समीक्षा के दौरान बड़े पैमाने पर कर्मीयों का आर्थिक, मानसिक व शारीरिक शोषण होगा। जो राज्य में विकट परिस्थिति लायेगा।

राज्य सरकार कर्मीयों की छँटनी नीति पर रोक लगाये, साथ ही अनुचित निर्णय को वापस ले। अन्यथा राष्ट्रीय जनता दल हर स्तर पर सरकार के इस जन बिरोधी आदेश के खिलाफ आवाज उठाने को बाध्य होगी। एक तरफ कोरोना जैसी महामारी में हरेक पदाधिकारी, अघिकारी, शिक्षक-कर्मचारी सरकार के आदेशों एवं निर्देशों को सजगता से कर रहे हैं। परन्तु राज्य सरकार इस समय ऐसीआदेश निकाल कर कर्मीयों के महामारी से लड़ने की क्षमता को घटा डाला है।

वित्त विभाग बिहार सरकार के ज्ञापांक -435 दिनांक-27-07-2020 द्वारा ब्वअपक-19 महामारी से उत्पन्न परिस्थिति में कर्तव्य के क्रम में संक्रमण के फलस्वरूप मृत सरकारी सेवकों के आश्रितों को विषेष परिवारिक पेंशन की सुविधा देने के आदेश जारी किये है। जबकि नियोजित शिक्षक भी सरकार के सभी कार्यो का निष्पादन कोरोना काल में कर रहा है। जिस दरम्यान कई शिक्षकों की मौत हो गई है, तथा दर्जनों भर संक्रमित है। इस हेतु नियोजित शिक्षकों को भी सेवा सुरक्षा के मदे् नजर इस विशेष परिवारिक पेंशन से आच्छादित किया जाना चाहिए। नियोजित शिक्षकों के मृत्यु उपरांत कोई पेंशन योजना भी आश्रितों को सहारा नहीं है। अन्यथा नियोजित शिक्षकों
को कोरोना काल में सभी दायित्वों से मुक्त रखा जाय।

जनबोल न्यूज

बिहार फिलहाल कोरोना तथा बाढ़ के दोनों महाआपदाओं से एक साथ जूझ रहा है।ऐसे में सिर्फ एक अधिकारी के भरोसे दोनों विभाग को छोड़ देना जनता के साथ पूरी तरह से नाइंसाफी है।बिहार प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से प्रश्न करते हुए पूछा है की बिहार में योग्य आईएएस अधिकारियों की घोर किल्लत है क्या? जो सिर्फ प्रत्यय अमृत के भरोसे ही आपदा प्रबंधन तथा स्वास्थ्य दोनों महकमों को रखा गया है।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के विस्तृत खतरे तथा बाढ़ की विभीषिका के मद्देनजर राज्य सरकार को आपदा प्रबंधन तथा स्वास्थ्य विभाग दोनों में अलग-अलग अनुभवी की तैनाती करनी चाहिए। मगर सीएम नीतीश कुमार ने दोनों पदों पर एक साथ वरिष्ठ आईएएस प्रत्यय अमृत को तैनात कर यह साबित कर दिया की प्रदेश में योग्य
अधिकारियों का घोर अभाव है।

उन्होंने कहा की अगर दोनों विभागों में दो अनुभवी तेज तर्रार अधिकारी रहते तो एक साथ कोरोना तथा बाढ़ दोनों पर नियंत्रण पाने की लड़ाई गति पकड़ सकती थी। राठौड़ ने
कहा है कि राज्य सरकार जनता को बताए की किन कारणों से लगातार दो स्वास्थ्य सचिवों को बदलना पड़ा,वह भी कोरोना के खिलाफ जारी जंग के बीच में।उन्होंने कहा की सीएम नीतीश कुमार तथा डिप्टी सीएम सुशील मोदी एक दिन भी अस्पतालों की दुर्दशा तथा कोरोना पीड़ितों के कष्ट को देखने के लिएअस्पताल नहीं पहुंचे। जिससे साफ जाहिर होता है कि उन्हें राज्य की आम आवाम की कितनी चिंता है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे खानापूर्ति के नाम पर एक बार अस्पताल जायजा लेने के लिए पहुंचे।मगर नियम सम्मत तरीके से कोरोना महाआपदा की विभीषिका को देखते हुए सीएम नीतीश कुमार तथा डिप्टी सीएम सुशील मोदी दोनों को राज्य के प्रमुख अस्पतालों का जायजा लेने जाना चाहिए। ताकि स्वास्थ्य क्षेत्र में कार्यरत डॉक्टरों तथा अन्य कर्मियों का उत्साह मंद ना पड़े।  राजेश राठौड़ ने कहा है कि यह विडंबना है कि इतनी कठिन परिस्थिति में भी 15 वर्षों तक बिहार की गद्दी पर विराजमान रहे सीएम नीतीश कुमार को बेहतर काम करने के लिए एक योग्य अधिकारी नहीं मिल रहा है। राठौड़ ने राज्य सरकार के द्वारा दो बार स्वास्थ्य सचिव के तबादले को सिर्फ जनता की नजरों में धूल झोंकने की कवायद बताया है।

उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार में स्वास्थ्य विभाग की हालत इतनी चौपट हो गई है कि किसी भी अधिकारी के वश में नही है की रातो रात इसे ठीक कर दे।उन्होंने कहा कि अगर चमकी बुखार के मामलों से सीख लेकर समय रहते सीएम नीतीश कुमार ने ध्यान दिया होता तो आज राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था इतनी बदहाल नहीं होती।